Subscribe:

कुल प्रविष्ठियां / टिप्पणियां

विजेट आपके ब्लॉग पर

Tuesday, May 18, 2010

आज फिर याद पुरानी

आज फिर याद पुरानी वो कहानी आई,
उम्र हल्की सी हुई फिर से जवानी आई।

खत का रंग खुद ही गुलाबी-सा हुआ,
और कुछ बात तेरी याद जुबानी आई।

दिन को फूलों से बहुत हमने सजाकर रखा,
ख्वाब में आई तो बस रात की रानी आई।

अब भी हाथों को मेरे तेरा भरम होता है,
जब भी हाथों में मेरे तेरी निशानी आई।

3 टिप्पणियाँ:

नीरज गोस्वामी said...

दिन को फूलों से बहुत हमने सजाकर रखा,
ख्वाब में आई तो बस रात की रानी आई।

इस रोमांटिक ग़ज़ल पर दिल कुर्बान...वाह..आनंद आ गया...बधाई
नीरज

Anju said...

ab bhi haatho ko mere tera bharam hota hai,
jb bhi hathon mein mere teri nishaani aae....

very impressive....lag hi nhi rha ke mai ise pdh rhi hu,i'm feeling a i am listening to you in your voice.....again&again.....&so on......
shayd us ahsaas ko shabdo me nhi peroya ja skta....jo gungunaht ka hai.....so i can say only ...
MARVELLOUS!!!!!!!!!!!!

aadi said...

teri hi jo gazal teri hi zabani aayi ...
sun ke ek arse baad meri aankho me aasko ki ravani aayi ..!!
Bhut Khub Sahab..!!
prsnly mujhe ye sun kar essa laga ki har ek harf ke baad kar zuban subhanallah na bole or aankhon asak na aaye to paap hoga..!!

Post a Comment