Subscribe:

कुल प्रविष्ठियां / टिप्पणियां

विजेट आपके ब्लॉग पर

Thursday, March 31, 2011

सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा/राजेश चड्ढ़ा

-सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा...जैसी सर्वाधिक प्रसिद्ध रचना के रचनाकार ’मोहम्मद इक़बाल’ का जन्म 9 नवंबर, 1877 को पंजाब के सियालकोट में हुआ,जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है ।

 -इक़बाल ने अपने काव्य में ‘इंक़लाब’ (क्रान्ति) का प्रयोग राजनीतिक तथा सामाजिक परिवर्तन के अर्थों में किया और शायरी को क्रान्ति का वस्तु-विषय दिया।

 -पूँजीपति - मज़दूर

 -ज़मींदार - किसान

 -स्वामी - सेवक

-शासक - पराधीन

 -इन सभी की परस्पर खींचातानी के जो विषय हम आज की शायरी में देखते हैं, उन पर इक़बाल ने क़लम उठाई और इसी से उनके बाद की पीढ़ी प्रभावित हुई ।

 -यह प्रभाव राष्ट्रवादी - रोमांसवादी - क्रान्तिवादी शायरों से होता हुआ आधुनिक काल के प्रगतिशील शायरों तक पहुँचा है ।

 -इक़बाल का निधन 21 अप्रैल, 1938 को हुआ ।

 -उनकी मृत्यु के बाद दिल्ली की ‘जौहर’ पत्रिका के "इक़बाल" विशेषांक में "महात्मा गांधी" का एक पत्र छपा था-

- "….डॉ. इक़बाल मरहूम के बारे में क्या लिखूँ? लेकिन मैं इतना तो कह सकता हूँ कि जब उनकी मशहूर नज्म ‘हिन्दोस्तां हमारा’ पढ़ी तो मेरी दिल भर आया और मैंने बड़ोदा जेल में तो सैंकड़ों बार इस नज्म को गाया होगा…"

-इक़बाल की नज्में और ग़ज़लें हमेशा हिन्दू-मुस्लिम एकता और भारतीय सांस्कृतिक बोध की गहरी छाप लिए हमारे बीच रहेंगी........


लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी

ज़िन्दगी शमअ की सूरत हो ख़ुदाया मेरी


दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाये

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाये


हो मेरे दम से यूँ ही मेरे वतन की ज़ीनत

जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत


ज़िन्दगी हो मेरी परवाने की सूरत या रब

इल्म की शमअ से हो मुझको मोहब्बत या रब


हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना

दर्द-मंदों से, ज़इफ़ों से मोहब्बत करना


मेरे अल्लाह बुराई से बचाना मुझको

नेक जो राह हो उस राह पे चलाना मुझको

5 टिप्पणियाँ:

तरुण भारतीय said...

हो मेरा काम गरीबो की हिमायत करना ....नेक रह पे मुजको चलाना मुझको ...काबिले तारीफ़ .....
राजेश जी कभी कभार दूसरों के ब्लॉग भी संभाल लिया करो

Dr (Miss) Sharad Singh said...

मोहम्मद इक़बाल जी पर अच्छी जानकारी....

शुभकामनायें !

Anju said...

दूर दुनिया का मेरे दम से अँधेरा हो जाये..
हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाये....
इकबाल जी के बारे में लिखने ...एक अच्छी ग़ज़ल चुनने के लिए बधाई ..
"खुद को मिटा कर जो अक्सर जला करता है..
वो दिया अंधेरो से हँसकर मिला करता है...."

राजेश चड्ढ़ा said...

धन्यवाद तरुण जी,डॉ सिंह, अंजू जी... आपको अच्छा लगा...ज़ाहिर है..मुझे भी अच्छा लगा....तरुण...आपका ब्लॉग देखा आज...ये भी अच्छा लगा..

Dinesh pareek said...

बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पे आने से बहुत रोचक है आपका ब्लॉग बस इसी तह लिखते रहिये येही दुआ है मेरी इश्वर से
आपके पास तो साया की बहुत कमी होगी पर मैं आप से गुजारिश करता हु की आप मेरे ब्लॉग पे भी पधारे
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

Post a Comment